राहुल से मिलेंगे पार्टी के बड़े नेता, दो कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त करने पर विचार

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद पार्टी में फिलहाल अनिश्चिता का माहौल है। हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने वाले राहुल गांधी अपने फैसले पर पुनर्विचार करने को तैयार नहीं...

राहुल से मिलेंगे पार्टी के बड़े नेता, दो कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त करने पर विचार

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद पार्टी में फिलहाल अनिश्चिता का माहौल है। हार की नैतिक जिम्मेदारी लेते हुए पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने वाले राहुल गांधी अपने फैसले पर पुनर्विचार करने को तैयार नहीं दिख रहे तो वहीं पार्टी के वरिष्ठ नेता लगातार इस कोशिश में हैं कि राहुल को मना लिया जाए। जानकारी के मुताबिक संगठन के काम में राहुल गांधी का हाथ बंटाने के लिए दो कार्यकारी अध्यक्ष बनाने के प्रस्ताव पर भी विचार किया जा रहा है।


वरिष्ठ नेताओं से मंत्रणा कर रहे हैं वेणुगोपाल
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता हर हाल में राहुल को मनाना चाहते हैं। इसके लिए पार्टी नेताओं की लगातार बैठकें हो रही है। इन बैठकों की धुरी में पार्टी के संगठन महासचिव के सी वेणुगोपाल हैं। वेणुगोपााल अब तक पूर्व केन्द्रीय मंत्री एके एंटनी, पी चिदंबरम, कोषाध्यक्ष अहमद पटेल, पार्टी महासचिव मोतीलाल वोरा, मुकुल वासनिक, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, आनंद शर्मा, हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा जैसे नेताओं से बातचीत कर चुके हैं। जानकारी के मुताबिक पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेता इसी सप्ताह राहुल गांधी से मिलेंगे और उनसे कहेंगे कि पार्टी में आपका कोई विकल्प नहीं है। बकौल सूत्र राहुल को मनाने के लिए नेताओं की ओर से यह प्रस्ताव दिया जाएगा कि यदि आप पर संगठन के काम का बोझ ज्यादा है तो दो कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किया जा सकता है। इन नेताओं का कहना है कि दो कार्यकारी अध्यक्षों में से एक अनुसूचित जाति वर्ग हो। यदि इस प्रस्ताव पर अमल हुआ तो इस पद के लिए महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमत्री सुशील कुमार शिंदे और लोकसभा की पूर्व अध्यक्ष मीरा कुमार का नाम आगे आ सकता है।  


चुनाव वाले राज्यों ने बढ़ाई पार्टी की चिंता
कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं की बड़ी चिंता अगले कुछ माह में महाराष्ट्र, हरियाणा, झारखंड और दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव की है। ऐसे वक्त जब भाजपा इन चुनावों की तैयारी के लिए अपनी कमर कस चुकी है तब कांग्रेस में अध्यक्ष पद पर जारी असमंजस की स्थिति से पार्टी को नुकसान हो सकता है। बता दें कि चुनावी हार के बाद राहुल गांधी ने न केवल अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने का मन बना लिया है, बल्कि यह भी साफ कर दिया है कि नए अध्यक्ष के लिए गांधी परिवार की ओर नहीं देखें। मतलब साफ है कि राहुल ने इस पद पर प्रियंका वाडृा गांधी की संभावना को भी खत्म कर दिया है।
 



.Download Dainik Bhaskar Hindi App for Latest Hindi News.
.
...
Senior leaders will meet congress president rahul Gandhi
.
.
.