मुझे हटाकर सीएम बनना चाहते हैं नवजोत सिंह सिद्धू: अमरिंदर सिंह

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की अंदरूनी लड़ाई अब उजागर होने लगी है। अमरिंदर सिंह ने रविवार को कहा कि, सिद्धू मुझे हटाकर सीएम बनना चाहते हैं। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया है, सिद्धू कांग्रेस की छवि बिगाड़ रहे हैं, पार्टी को उनके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। Punjab CM Capt. Amarinder Singh: There is no war of words with Navjot Singh Sidhu, if he is ambitious, it's fine, people have ambitions. I have known him since childhood, I have no difference of opinion with him. He probably wants to become CM and replace me, that is his business pic.twitter.com/a5fMCGrBDc — ANI (@ANI) May 19, 2019 सिद्धू के साथ मेरी जुबानी जंग नहीं है रविवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान अमरिंदर सिंह ने कहा, नवजोत सिंह सिद्धू के साथ मेरी कोई जुबानी जंग नहीं है। अगर वह महत्वाकांक्षी हैं तो इसमें कुछ गलत नहीं है। लोगों की महत्वाकांक्षाएं होती हैं। मैं उन्हें बचपन से जानता हूं। मेरा उनके साथ कोई वैचारिक मतभेद नहीं है। वह शायद मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं और मुझे हटाना चाहते हैं।  सिद्धू के बयान से पार्टी पर पड़ेगा असर अमरिंदर सिंह ने ये भी कहा कि, चुनाव से ठीक एक दिन पहले सिद्धू ने जो बयान दिया उसका असर पार्टी पर पड़ेगा, न की मुझ पर। यह पार्टी हाईकमान पर निर्भर करता है कि वह सिद्धू के खिलाफ क्या कार्रवाई करती है, लेकिन एक पार्टी के तौर पर कांग्रेस को अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं करनी चाहिए। अमरिंदर सिंह ने सिद्धू पर निशाना साधते हुए कहा, अगर वह असली कांग्रेसी होते तो वह अपनी शिकायतों के लिए चुनाव का वक्त नहीं चुनते।  'पार्टी के प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दूंगा' दरअसल कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार को कहा था, अगर लोकसभा चुनावों में पंजाब में कांग्रेस पार्टी अच्छा प्रदर्शन नहीं करती है तो वह जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से इस्तीफा दे देंगे। अमरिंदर ने कहा था, पार्टी आलाकमान का फैसला है कि लोकसभा चुनावों में पार्टी उम्मीदवारों की जीत या हार का पूरा श्रेय पार्टी के मंत्रियों और विधायकों को जाएगा। मैं इसकी जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार हूं। हालांकि मुझे यकीन है कांग्रेस पंजाब में सभी लोकसभा सीटों पर जीत हासिल करेगी। सिद्धू की पत्नी ने अमरिंदर सिंह पर लगाया था आरोप अमरिंदर सिंद के बयान को लेकर पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा था, अगर कैप्टन अमरिंदर के राज में धर्म ग्रंथों के अपमान पर इंसाफ नहीं मिला और दोषियों को सज़ा नहीं दी गई तो मैं कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा दे दूंगा। इससे पहले नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने कहा था, कैप्टन साहब की वजह से मेरा टिकट काट दिया गया। उन्होंने कहा, कैप्टन साहब और आशा कुमारी को लगता है कि मैडम सिद्धू सांसद टिकट के लायक नहीं हैं। दशहरा पर जो ट्रेन हादसा हुआ था, उसे आधार बनाकर मेरा टिकट काटा गया। अमृतसर सीट से नहीं मिला टिकट नवजोत कौर को अमृतसर से लोकसभा टिकट नहीं मिला। पंजाब के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू से जब उनकी पत्नी के आरोपों के बारे में गुरुवार को सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, मेरी पत्नी नैतिक रूप से इतनी मजबूत हैं कि वह कभी झूठ नहीं बोलेंगी। पंजाब में सत्तारूढ़ कांग्रेस का मुकाबला बीजेपी-अकाली दल गठबंधन और आम आदमी पार्टी से है। अमृतसर में कांग्रेस ने मौजूदा सांसद गुरजीत सिंह को शिरोमणि अकाली दल-भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार हरदीप सिंह पुरी के सामने उतारा है। 

मुझे हटाकर सीएम बनना चाहते हैं नवजोत सिंह सिद्धू: अमरिंदर सिंह
डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और कांग्रेस नेता नवजोत सिंह सिद्धू की अंदरूनी लड़ाई अब उजागर होने लगी है। अमरिंदर सिंह ने रविवार को कहा कि, सिद्धू मुझे हटाकर सीएम बनना चाहते हैं। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया है, सिद्धू कांग्रेस की छवि बिगाड़ रहे हैं, पार्टी को उनके खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए। Punjab CM Capt. Amarinder Singh: There is no war of words with Navjot Singh Sidhu, if he is ambitious, it's fine, people have ambitions. I have known him since childhood, I have no difference of opinion with him. He probably wants to become CM and replace me, that is his business pic.twitter.com/a5fMCGrBDc — ANI (@ANI) May 19, 2019 सिद्धू के साथ मेरी जुबानी जंग नहीं है रविवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान अमरिंदर सिंह ने कहा, नवजोत सिंह सिद्धू के साथ मेरी कोई जुबानी जंग नहीं है। अगर वह महत्वाकांक्षी हैं तो इसमें कुछ गलत नहीं है। लोगों की महत्वाकांक्षाएं होती हैं। मैं उन्हें बचपन से जानता हूं। मेरा उनके साथ कोई वैचारिक मतभेद नहीं है। वह शायद मुख्यमंत्री बनना चाहते हैं और मुझे हटाना चाहते हैं।  सिद्धू के बयान से पार्टी पर पड़ेगा असर अमरिंदर सिंह ने ये भी कहा कि, चुनाव से ठीक एक दिन पहले सिद्धू ने जो बयान दिया उसका असर पार्टी पर पड़ेगा, न की मुझ पर। यह पार्टी हाईकमान पर निर्भर करता है कि वह सिद्धू के खिलाफ क्या कार्रवाई करती है, लेकिन एक पार्टी के तौर पर कांग्रेस को अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं करनी चाहिए। अमरिंदर सिंह ने सिद्धू पर निशाना साधते हुए कहा, अगर वह असली कांग्रेसी होते तो वह अपनी शिकायतों के लिए चुनाव का वक्त नहीं चुनते।  'पार्टी के प्रदर्शन की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा दे दूंगा' दरअसल कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार को कहा था, अगर लोकसभा चुनावों में पंजाब में कांग्रेस पार्टी अच्छा प्रदर्शन नहीं करती है तो वह जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से इस्तीफा दे देंगे। अमरिंदर ने कहा था, पार्टी आलाकमान का फैसला है कि लोकसभा चुनावों में पार्टी उम्मीदवारों की जीत या हार का पूरा श्रेय पार्टी के मंत्रियों और विधायकों को जाएगा। मैं इसकी जिम्मेदारी लेने के लिए तैयार हूं। हालांकि मुझे यकीन है कांग्रेस पंजाब में सभी लोकसभा सीटों पर जीत हासिल करेगी। सिद्धू की पत्नी ने अमरिंदर सिंह पर लगाया था आरोप अमरिंदर सिंद के बयान को लेकर पंजाब सरकार में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने कहा था, अगर कैप्टन अमरिंदर के राज में धर्म ग्रंथों के अपमान पर इंसाफ नहीं मिला और दोषियों को सज़ा नहीं दी गई तो मैं कैबिनेट मंत्री पद से इस्तीफा दे दूंगा। इससे पहले नवजोत सिंह सिद्धू की पत्नी नवजोत कौर सिद्धू ने कहा था, कैप्टन साहब की वजह से मेरा टिकट काट दिया गया। उन्होंने कहा, कैप्टन साहब और आशा कुमारी को लगता है कि मैडम सिद्धू सांसद टिकट के लायक नहीं हैं। दशहरा पर जो ट्रेन हादसा हुआ था, उसे आधार बनाकर मेरा टिकट काटा गया। अमृतसर सीट से नहीं मिला टिकट नवजोत कौर को अमृतसर से लोकसभा टिकट नहीं मिला। पंजाब के पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू से जब उनकी पत्नी के आरोपों के बारे में गुरुवार को सवाल किया गया तो उन्होंने कहा, मेरी पत्नी नैतिक रूप से इतनी मजबूत हैं कि वह कभी झूठ नहीं बोलेंगी। पंजाब में सत्तारूढ़ कांग्रेस का मुकाबला बीजेपी-अकाली दल गठबंधन और आम आदमी पार्टी से है। अमृतसर में कांग्रेस ने मौजूदा सांसद गुरजीत सिंह को शिरोमणि अकाली दल-भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार हरदीप सिंह पुरी के सामने उतारा है।