झूठ का गुब्बारा है संकल्प पत्र, बीजेपी को जारी करना चाहिए था माफीनामा: कांग्रेस

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के लिए जारी किए गए बीजेपी के घोषणापत्र पर कांग्रेस ने हमला बोला है। कांग्रेस पार्टी ने बीजेपी के संकल्प पत्र को झूठ का गुब्बारा करार देते हुए कहा, बीजेपी को घोषणापत्र की बजाए माफीनामा जारी करना चाहिए था। सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस के नेताओं ने बीजेपी के संकल्प पत्र पर प्रतिक्रिया दी। LIVE: Press briefing by @rssurjewala and @rajeevgowda on #BJPJumlaManifesto. https://t.co/OJCte37Aqu — Congress Live (@INCIndiaLive) April 8, 2019 कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा, बीजेपी के घोषणापत्र और कांग्रेस के घोषणापत्र के बीच साफ अंतर इसके कवर पेज पर देखा जा सकता है। हमारे कवर पर लोगों का समूह है जबकि बीजेपी के कवर पर केवल एक आदमी की तस्वीर है। घोषणापत्र की बजाए बीजेपी को माफीनामे के साथ आना चाहिए था।  Ahmed Patel.Congress: The difference between BJP manifesto and Congress manifesto can be seen firstly from the cover page. Our's has a crowd of people, and BJP manifesto has face of just one man. Instead of a manifesto BJP should have come out with a 'maafinama' pic.twitter.com/nGjdHyu3QH — ANI (@ANI) April 8, 2019 अहमद पटेल ने कहा, ये बीजेपी का संकल्प पत्र नहीं बल्कि झांसा पत्र है। बीजेपी के इस घोषणापत्र में केवल मोदी और उनका अहंकार है। इसमें जनता के लिए कुछ नहीं है। बता दें कि बीजेपी ने अपने संकल्प पत्र में किसानों और छोटे दुकानदारों को पेंशन देने सहित कई वादे किए हैं। अहमद पटेल ने इसे झूठ का वादा बताया है। उन्होंने कहा, बीजेपी के घोषणापत्र में सिर्फ मैं ही मैं हूं, इसमें ना देश है और ना पार्टी है। बीजेपी के घोषणापत्र में सिर्फ मैं, मेरा और मेरा अहंकार शामिल है। मोदी मूलमंत्र = ‘झाँसे में फांसो’ मोदी सरकार का सफरनामा - जुमलों से झांसों तक! फिर एक बार, उन्होंने किया ‘झाँसा पत्र’ तैयार, देश की जनता करेगी खारिज इस बार, झोला उठाकर, हो जाओ जाने को तैयार। भाजपा के झाँसा-पत्र पर हमारा बयान:- #BJPJumlaManifesto pic.twitter.com/xN3Ou5Dod6 — Randeep Singh Surjewala (@rssurjewala) April 8, 2019 अहमद पटेल ने कहा, एक तरफ हमारे घोषणापत्र के फ्रंट पर देश की जनता की तस्वीर है तो बीजेपी के संकल्प पत्र पर सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर है। ये सिर्फ झूठ का गुब्बारा है, इससे अच्छा होता कि बीजेपी माफीनामा जारी कर देती। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा, आज देश में बेरोजगारी है लेकिन रोजगार के वादों का क्या हुआ। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, काम के नाम पर मोदी नाम के विद्यार्थी की कॉपी कोरी पड़ी है। बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में रोजगार और नोटबंदी का नाम ही नहीं लिया। चलिए, हम आपको वो याद दिलाते हैं, जिसे आप भूल गए लेकिन, देश की जनता को याद है- ₹15 लाख, 2 करोड़ रोजगार, किसानों की दुगुनी आय, महिला सुरक्षा। इन मुद्दों पर आप बुरी तरह विफल हुए हो और जनता आपको माफ़ नहीं करेगी। इसलिए- अब जनता की बारी है। सरकार तुम्हारी जानी है।।#BJPJumlaManifesto https://t.co/F4eXcsasAX — Congress (@INCIndia) April 8, 2019 प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले कांग्रेस ने ट्वीट कर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बयान पर निशाना साधा। कांग्रेस ने ट्वीट में लिखा, चलिए  हम आपको वो याद दिलाते हैं, जिसे आप भूल गए, लेकिन देश की जनता को याद है। 15 लाख रुपए, 2 करोड़ रोजगार, किसानों की दुगुनी आय, महिला सुरक्षा। इन मुद्दों पर आप बुरी तरह विफल हुए हैं और जनता आपको माफ़ नहीं करेगी। इसलिए अब जनता की बारी है। सरकार तुम्हारी जानी है।

झूठ का गुब्बारा है संकल्प पत्र, बीजेपी को जारी करना चाहिए था माफीनामा: कांग्रेस
डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लोकसभा चुनाव के लिए जारी किए गए बीजेपी के घोषणापत्र पर कांग्रेस ने हमला बोला है। कांग्रेस पार्टी ने बीजेपी के संकल्प पत्र को झूठ का गुब्बारा करार देते हुए कहा, बीजेपी को घोषणापत्र की बजाए माफीनामा जारी करना चाहिए था। सोमवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कांग्रेस के नेताओं ने बीजेपी के संकल्प पत्र पर प्रतिक्रिया दी। LIVE: Press briefing by @rssurjewala and @rajeevgowda on #BJPJumlaManifesto. https://t.co/OJCte37Aqu — Congress Live (@INCIndiaLive) April 8, 2019 कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा, बीजेपी के घोषणापत्र और कांग्रेस के घोषणापत्र के बीच साफ अंतर इसके कवर पेज पर देखा जा सकता है। हमारे कवर पर लोगों का समूह है जबकि बीजेपी के कवर पर केवल एक आदमी की तस्वीर है। घोषणापत्र की बजाए बीजेपी को माफीनामे के साथ आना चाहिए था।  Ahmed Patel.Congress: The difference between BJP manifesto and Congress manifesto can be seen firstly from the cover page. Our's has a crowd of people, and BJP manifesto has face of just one man. Instead of a manifesto BJP should have come out with a 'maafinama' pic.twitter.com/nGjdHyu3QH — ANI (@ANI) April 8, 2019 अहमद पटेल ने कहा, ये बीजेपी का संकल्प पत्र नहीं बल्कि झांसा पत्र है। बीजेपी के इस घोषणापत्र में केवल मोदी और उनका अहंकार है। इसमें जनता के लिए कुछ नहीं है। बता दें कि बीजेपी ने अपने संकल्प पत्र में किसानों और छोटे दुकानदारों को पेंशन देने सहित कई वादे किए हैं। अहमद पटेल ने इसे झूठ का वादा बताया है। उन्होंने कहा, बीजेपी के घोषणापत्र में सिर्फ मैं ही मैं हूं, इसमें ना देश है और ना पार्टी है। बीजेपी के घोषणापत्र में सिर्फ मैं, मेरा और मेरा अहंकार शामिल है। मोदी मूलमंत्र = ‘झाँसे में फांसो’ मोदी सरकार का सफरनामा - जुमलों से झांसों तक! फिर एक बार, उन्होंने किया ‘झाँसा पत्र’ तैयार, देश की जनता करेगी खारिज इस बार, झोला उठाकर, हो जाओ जाने को तैयार। भाजपा के झाँसा-पत्र पर हमारा बयान:- #BJPJumlaManifesto pic.twitter.com/xN3Ou5Dod6 — Randeep Singh Surjewala (@rssurjewala) April 8, 2019 अहमद पटेल ने कहा, एक तरफ हमारे घोषणापत्र के फ्रंट पर देश की जनता की तस्वीर है तो बीजेपी के संकल्प पत्र पर सिर्फ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीर है। ये सिर्फ झूठ का गुब्बारा है, इससे अच्छा होता कि बीजेपी माफीनामा जारी कर देती। उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा, आज देश में बेरोजगारी है लेकिन रोजगार के वादों का क्या हुआ। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, काम के नाम पर मोदी नाम के विद्यार्थी की कॉपी कोरी पड़ी है। बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में रोजगार और नोटबंदी का नाम ही नहीं लिया। चलिए, हम आपको वो याद दिलाते हैं, जिसे आप भूल गए लेकिन, देश की जनता को याद है- ₹15 लाख, 2 करोड़ रोजगार, किसानों की दुगुनी आय, महिला सुरक्षा। इन मुद्दों पर आप बुरी तरह विफल हुए हो और जनता आपको माफ़ नहीं करेगी। इसलिए- अब जनता की बारी है। सरकार तुम्हारी जानी है।।#BJPJumlaManifesto https://t.co/F4eXcsasAX — Congress (@INCIndia) April 8, 2019 प्रेस कॉन्फ्रेंस से पहले कांग्रेस ने ट्वीट कर बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के बयान पर निशाना साधा। कांग्रेस ने ट्वीट में लिखा, चलिए  हम आपको वो याद दिलाते हैं, जिसे आप भूल गए, लेकिन देश की जनता को याद है। 15 लाख रुपए, 2 करोड़ रोजगार, किसानों की दुगुनी आय, महिला सुरक्षा। इन मुद्दों पर आप बुरी तरह विफल हुए हैं और जनता आपको माफ़ नहीं करेगी। इसलिए अब जनता की बारी है। सरकार तुम्हारी जानी है।